Manoj Kumar Pandey

ASIA -

Manoj Kumar Pandey

Manoj Kumar Pandey, born in the village Siswaan in the District of Allahabad, has a postgraduate degree in Hindi Literature from Allahabad University. He is an editor, short story writer and a critic and has published four short story collections titled Shahtoot – The Mulberries, Paani – The Water, Khajana – The Treasure, and Badalta Hua Desh – A Country Which Is Changing. Many of his stories have been adapted for the theatre as well as for movies. His works have also been translated into Urdu, Punjabi, Nepali, Marathi, Oriya, Gujrati, Malayalam and English, and he has been awarded the Vanmali Young Short Story Writer Award (2019), Ram Adwani Award (2018), Ravindra Kalia Memorial Story Award (2017), Spandan Award (2015) and many others since 2006.


मनोज कुमार पाण्डेय, जिनका जन्म इलाहाबाद ज़िले के एक गाँव सिसवां में हुआ है, इलाहाबाद विश्वविद्यालय से हिंदी में परास्नातक हैं. वे कहानीकार होने के साथ-साथ, एक सम्पादक, और आलोचक भी हैं. अभी तक उनके चार कहानी संग्रह, ‘शहतूत’, ‘पानी’, ‘खज़ाना’ और ‘बदलता हुआ देश’ छप कर आ चुके हैं. उनकी कई कहानियों पर फिल्में बन चुकी हैं और उनका नाट्य रूपांतरण भी हो चुका है. इसके साथ-साथ, उनकी कहानियों का अनुवाद उर्दू, पंजाबी, नेपाली, मराठी, उड़िया, गुजराती, मलयालम, और अंग्रेज़ी में हो चुका है. अपनी कहानियों के लिए उन्हें, वनमाली युवा कथा सम्मान (2019), राम आडवाणी पुरस्कार (2018), रवीन्द्र कालिया स्मृति कथा सम्मान (2017), स्पंदन कृति सम्मान (2015) आदि और भी कई पुरस्कार और सम्मान सन 2005 से मिल चुके हैं.

By Manoj Kumar Pandey